Saturday, September 11, 2010

ये संगम अनूठा है (अजय की गठरी )

आज शुभ दिनों का अनूठा संगम है ,विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की पूजा का पावन पर्व गणेश चतुर्थी ,
भाई चारे और आपसी सौहार्द का पवित्र त्योहार रमजान ईद तथा सुहागिन नारियों का मंगल दिन हरितालिका तीज आज ही है ।सभी को शुभकामनायें ।
                                                                             (१)


खुशहाली हो सभी घरों में
दुख अब रहे न शेष ।
दुष्ट और भ्रष्टाचारी का
अंत करो हे गणेश ॥

                                                      विघ्नहर्ता की जय
(२)

मिलते हैं गले सबसे
बाहें पसार के ।
करते हैं दुआ अमन की
परवर दिगार से ॥

                                               ईद मुबारक हो

                                                                                  (३)

                                                                                                                                                                                                                                                  
                                                            प्यारा हो दाम्पत्य सभी का
                                                                सबके घर खुशहाल रहें ।
                                                                 साथ सजन का कभी न छूटे
                                                                 प्रेम से मालामाल रहें ॥

                                                    हरितालिका तीज पर मंगलकामनायें
                                         ********************    
                                         गठरी पर  अजय कुमार
                                          ********************

27 comments:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

अजय जी...कमाल का पिरोए हैं आप तीन त्यौहारों को तीन कविता में... आपको भी शुभकामनाएँ!!

महेन्द्र मिश्र said...

गणेश चतुर्थी और ईद की बधाई और शुभकामनाये...

अजय कुमार झा said...

आहाहा .......ये तो संगम हो गया ..हम डुबकी लगा के जा रहे हैं , आपको भी बहुत बहुत बधाई हो

Coral said...

गणपति बाप्पा मोरया ...
गणेश चतुर्थी शुभकामनाये...

om said...

नमस्कार और साथ मे धन्यवाद,गणेश चतुर्थी, तीज और ईद की बधाई. आपके रचनाओ को पढ कर दिल को चैन आया.

अनामिका की सदायें ...... said...

bahut sunder bhaav.

ganesh chaturthi ki shubhkaamnayen.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

तीनों त्योहारों पर खूबसूरती से लिखा है ..बहुत सुन्दर

Akhtar Khan Akela said...

अजय भाई भुत खूब हैजान आपने इस संगम पर जो अनूठा कार्यक्रम बनाया हे वोह bhut खूब और काबिले तारीफ़ हे बेहतरीन प्रदर्शन के लियें थे दिल से बधाई ईद और गणेश चतुर्थी पर हार्दिक बधाई , अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

डॉ टी एस दराल said...

ईद , गणेश चतुर्थी और तीज --भई क्या बात है । आज तो मालामाल हो गए । तीनों की मुबारकवाद कबूल करें।

मनोज कुमार said...

अजय जी कमाल है। बहुत अच्छा संगम है यहां पर!

आपको और आपके परिवार को तीज, गणेश चतुर्थी और ईद की हार्दिक शुभकामनाएं!
फ़ुरसत से फ़ुरसत में … अमृता प्रीतम जी की आत्मकथा, “मनोज” पर, मनोज कुमार की प्रस्तुति पढिए!

Babli said...

आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !
बहुत सुन्दर !

डॉ. नूतन " अमृता " said...

bahut sundar ... aaj teeno tyohaar aik hee din they......apne bhaichaare ke .. aapko bhi in sundar kavitao ke liye dhanyvaad aur mangalkaamnaye...

पलाश said...

आपकी कविता में ये संगम देख कर बहुत अच्च्ह लगा
आपको ईद मुबारक और तीज की हार्दिक बधाई

डॉ. मोनिका शर्मा said...

आपको भी शुभकामनाएँ.....
तीनों त्योहारों कमाल का पिरोए हैं..... बहुत अच्छा संगम..... बधाई

दीक्षित said...

तीन त्योहारों की कवितामयी बधाई अति सुन्दर है

राजभाषा हिंदी said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।

देसिल बयना – 3"जिसका काम उसी को साजे ! कोई और करे तो डंडा बाजे !!", राजभाषा हिन्दी पर करण समस्तीपुरी की प्रस्तुति, पधारें

पी.सी.गोदियाल said...

Bahut sundar kahaa Ajay ji. Samyaabhaav ke kaaran aaj bahut dino baad aanaa huaa aapke blog par.

मो सम कौन ? said...

वाह अजय जी, वाकई इस गठरी में सबके लिये कुछ न कुछ है।
बहुत अच्छी पोस्ट।

दीपक 'मशाल' said...

ये तो आपने एस.एम.एस. मटेरियल तैयार कर दिया सर.. बढ़िया.. :)

भारतीय की कलम से.... said...

वन्दे मातरम तीनों त्योहारों को एक माला में अच्छी तरह पिरोया है, आपका यह प्रयास अनुकर्णीय है, मेरी ओर से आपको सपरिवार तीनों त्योहारों को बधाई, शुभकामनायें एवं मुबारकबाद प्रेषित है, स्वीकार करें ...........!!

दिगम्बर नासवा said...

तीनों त्योहारों को माला में पिरो दिया है आपने अजय जी ... बहुत लाजवाब
आपको तीनों की बहुत बहुत मंगलकांनाएँ ....

ज्योति सिंह said...

aapko bhi sabhi parvo ki badhaiyaan .

Vijai Mathur said...

Miya-Bibi-Bachcha
Kavita ka bhaw Achcha.

कुमार राधारमण said...

त्यौहार हमारी सांस्कृतिक एकजुटता की कड़ी रहे हैं। स्वरूप भले बदलता रहे मगर मूलभाव यथावत् रहना चाहिए।

ज्ञान दीपक दुबे said...

बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति...

Mrs. Asha Joglekar said...

वाह, तीनों पर्वों के लिये बहुत सुंदर चोपाइयाँ । आपको भी बहुत शुभ कामनाएँ ।

सईद said...

ajai ji man karta hai ki aapki gathree chura lun lekin nahi kyunki aisa karne per itne achhi achhi kavitayen kahan padhne ko milengi bhai bahut khub eid aur ganesh chaturthi ki dher saari shubhkaamnayen