Sunday, September 19, 2010

गठरी की पहली सालगिरह ---टिप्पणी के अलावा कोई गिफ्ट स्वीकार नहीं (अजय की गठरी)

कई दिनों से तमन्ना थी कि आज कुछ जरूर लिखूं ,आखिर मेरे जैसे अदने ब्लागर ने ब्लाग जगत में एक वर्ष पूर्ण कर लिया है । बहुत ही अच्छा सफर है अभी तक का ,आगे भी जारी रखने का इरादा है। वैसे ब्लाग बनाने का आइडिया भी सफर के दौरान ही आया । हुआ यूं कि हमारा आफिस शिफ्ट हो गया था ,और हम लोग रोजाना करीब ३०-३५ कि.मी. की दूरी स्टाफ बस में तय करते थे । मुंबई के ट्रैफिक में यह दूरी करीब २ घंटे में पूरी होती थी । इस तरह हम आते जाते ४ घंटे का सफर आपसी बातचीत ,बहस या फिर तुक बंदी की आदान प्रदान से पूरी करते थे । कभी एसी की हवा भाई तो सो भी लेते थे ,या कोई फिल्म भी देखते थे।
ऐसे ही बातचीत के दौरान विमल वर्मा जी (ठुमरी) ने मुझे ब्लाग लिखने के लिये प्रेरित किया ,और मैं ब्लागर बन गया ।यदा कदा उन्हें तंग करके मदद लेता रहता हूं ।
इस एक साल में कछुआ चाल से सिर्फ ३८ पोस्ट लिख सका हूं ।बहुत से मित्र ,मार्गदर्शक मिल चुके हैं । सबसे पहली नसीहत समीर जी (उड़न तश्तरी)  से मिली वर्ड वेरीफिकेशन हटाने की ,तुरंत अमल किया । ऐसे ही कई बार लोगों ने ब्लाग को सुंदर बनाने में सहयोग दिया ,अपनी टिप्पणियों से मुझे प्रेरित किया ,सभी का आभार ।
जब भी नये ब्लाग खुलने की सूचना प्राप्त होती है ,देर सवेर उनका स्वागत अवश्य करता हूं । आप सब से अनुरोध है कि आप लोग भी नये ब्लागरों का उत्साह अवश्य बढ़ायें ।आफिस और परिवार की जिम्मेदारी के बाद बचा वक्त ब्लाग के लिये कम होता है ,शायद इसीलिये मेरे पोस्ट बहुत कम हैं । आप सब से निवेदन है कि अपना स्नेह ,मार्गदर्शन और शुभकामना देते रहें ।

56 comments:

संजय भास्कर said...

गठरी की पहली सालगिरह

ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय भास्कर said...

ढेर सारी शुभकामनायें.

Poorviya said...

badhai ho .

मो सम कौन ? said...

अजय जी,
मैंने बैठे टाले पंगेबाजी करते हुये ब्लॉग बना लिया था। शुरुआत में ही आपकी टिप्पणी मिली थी और जैसा श्रेय आपने दिया समीर साहब को, वो तो डिज़र्व करते ही हैं, आप भी हमारा धन्यवाद लें शुरू में ही प्रोत्साहित करने के लिये और वर्ड वैरिफ़िकेशन संबंधी सलाह देने के लिये। ये फ़ार्मूला तो हमने भी पकड़ लिया है, जहा~म वर्ड वेरिफ़िकेशन देखत हैं, सलाह दे ही देते हैं और बहुधा मान भी ली जाती है। और भी नये ब्लॉग्स पर आपकी प्रेरक टिप्पणी देखते रहते हैं। पोस्ट्स की संख्या पर मत जाईये, गुणवता बनी हुई है आपके यहा~म और इससे इतर भी जो कार्य आप कर रहे हैं, नये ब्लॉगर्स को प्रोत्साहन देने का, काबिले तारीफ़ है।
आपके ब्लॉग के पहला वर्ष पूरा होने पर हारिद्क शुभकामनायें, और ऐसी बहुत सी और भी शुभकामनायें आपको लेनी हैं।

डॉ टी एस दराल said...

नंबर से क्या फर्क पड़ता है । समय का सदुपयोग करते हुए ब्लोगिंग करते रहिये । बधाई और शुभकामनायें ।

zindagi-uniquewoman.blogspot.com said...

congrates ajay ji....aapko blogging karte hue ek saal ho chuka....mujhe bahut acha laga ki aapne mera b utsahwardan kiya....thanks a lot....Archana

Coral said...

पहली सालगिरह - बधाई और शुभकामनायें

पी.सी.गोदियाल said...

अजय जी, मेरा शुभकामनाओ भरा गिफ़्ट !!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

अजय जी ,

ब्लॉग के एक साल पूरा होने की बधाई ...

आगे के लिए शुभकामनायें ...यह सफर यूँ ही निरंतर चलता रहे .

महेन्द्र मिश्र said...

पहली सालगिरह...ढेर सारी शुभकामनायें...

निर्मला कपिला said...

ांजय जी बहुत बहुत बधाई आपको। आपकी गठरी मैने ब्लाग लिस्ट मे सम्भाल ली है। आप इसी तरह लिखते रहें शुभकामनायें

Shashank Singh said...

सर, आपने मेरे ब्लाँग का स्वागत किया इससे ज्यादा मेरे लिये और क्या हो सकता है. आपका स्वागत और बधाई शब्द जरूर एक प्रेरणा बनकर सामने आयेगी. 1 साल पूरा करने के लिये धन्यवाद सर. आपका सहयोग मिलता रहे जो कि इस प्रयोग को आगे बढा ले जा .........................

Vijai Mathur said...

Blog ki Varsh ganth par Shubh Kamnayen

योगेश स्वप्न said...

dher sari badhaai aur shubh kaamnayen.

Girijesh Rao said...

ढेर सारी शुभकामनाएँ।

अजय कुमार झा said...

बहुत बहुत बधाई हो अजय भाई ..हम तो चाहते हैं कि ये गठरी दिनोंदिन भारी होती जाए ..नए ब्लॉगर्स साथियों के प्रति फ़र्ज़ की दोबारा याद दिलाने का शुक्रिया ...

ताऊ रामपुरिया said...

पहली साल की सालगिरह पर ढेरों बधाई और शुभकामनाएं.

रामराम.

Babli said...

आपकी टिपण्णी और उत्साह वर्धन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
ब्लॉग की पहली सालगिरह पर ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

अजय जी, हम त टेली शॉपिंग के जरिए एगो अच्छा सा गिफ्ट आपके लिए ऑर्डर कर चुके थे, लेकिन का कहें आप मना कर दिए त सोचे टिप्पणीये गिफ्ट करें... अरे कुछ केक लगाइए, कुछ मोमबत्ती जलाइए, अऊर हमरे तरफ से बस सुभकामना है कि बस मन का सुनिए और सुनाइए... बस आप साल का गिनती भी भूल जाइएगा... पुनः सुभकामनाएँ!!

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

काव्य के हेतु (कारण अथवा साधन), परशुराम राय, द्वारा “मनोज” पर, पढिए!

Deepti Sharma said...

aapko bahut bahut badhaye
ek baras pura hone par
deepti sharma

अशोक बजाज said...

गठरी की पहली वर्ष गांठ पर आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं .

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

ब्लागिंग वर्षगांठ की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाऎँ....
आपकी ये दुकान खूब फले फूले :)

बेचैन आत्मा said...

ढेर सारी बधाई।

Gautam Sadhuram Priye said...

अजय जी 'गठरी' कि पहली सालगिरह आपको बहुत-२ मुबारक। आशा करते हैं कि इस गठरी कि गाँठ अतिशीघ्रता से खुलेगी और हम आपकी गठरी में छुपे हुए ज्ञान रूपी अनमोल खजाने को पा सकेंगे। आप बहुत अच्छा लिखते हैं, कुछ अपनी सी झलक देख रहा हूँ, आपने मेरे ब्लॉग पर आकर मेरा उत्साह वर्धन किया उसके लिए धन्यवाद्। आपको ढेरों शुभकामनायें।

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

saalgirah mubarak ..

Happy Blogging

डॉ. मोनिका शर्मा said...

bahut bhaut badhai Ajayji....

satat lekhan ke liye shubhkamnayen....

ALOK KHARE said...

पहली सालगिरह - बधाई और शुभकामनायें

वाणी गीत said...

बहुत बधाई ..!

संगीता पुरी said...

बधाई और शुभकामनाएं !!

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI said...

लीजिये आपकी गठरी के लिए टोकरा भर शुभकामनाएं !

sada said...

ब्‍लाग लेखन में एकवर्ष पूर्ण होने पर बहुत-बहुत बधाई, यह प्रयास अनवरत् जारी रहे, शुभकामनायें ।

भंगार said...

अजय जी ,आप के ब्लॉग क़ा एक साल पूरा हुआ

बहुत -बहुत धन्यबाद ......इसी तरह लिखते रहें

एक दिन आयेगा .....जब आप कवि अजय जी बन

जायेंगे .........

Mukesh Kumar Sinha said...

shubhkamnayen meri bhi sweekar karen........saath sada bana rahega..........aur varsho varshganth manate rahenge...:)

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

बधाई की एक गठरी हमारी भी।
................
खूबसरत वादियों का जीव है ये....?

सुज्ञ said...

वाह! तो गठरी हो गई साल भर की।
पोटली भर शुभकामनाएं सालों साल की॥
हमारी बधाई बांध दिजिएगा इस गठरी में!!

arun c roy said...

आपकी गठरी मे हमारी शुभ्काम्नाये भी शामिल कर ले..

राजभाषा हिंदी said...

शुभकामनाएं!बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
समझ का फेर, राजभाषा हिन्दी पर संगीता स्वरूप की लघुकथा, पधारें

dipayan said...

भाई अजयजी,
कमाल हो गया ।
एक साल मे,
बच्चा जवान हो गया ॥
आपके "गठरी" को उसकी पहली सालगिरह पर बहुत बहुत बधाईयाँ ।
पूरी उम्मीद है, आने वाले दिनो में, आपकी "गठरी" से अनेक रोचक एवं मनोरंजन से भरपूर रचनाये और लेख निकलेंगे ॥
आपको पता ही होगा, ज़िन्दगी में थोड़ी व्यस्ता के कारण, काफ़ी दिनो से ब्लाग जगत से दूर रहा, परन्तु आज आपको बधाई दिये बिना नहीं रह सका ।
फिर से, हार्दिक बधाईयाँ ।

दिगम्बर नासवा said...

ब्लॉग तो एक सतत यात्रा है ... जारी रहनी चाहिए ... धीरे या तेज़ कोई फ़र्क नही पड़ता .... आपको एक वर्ष पूरा होने पर बहुत बहुत बधाई ....

ZEAL said...

ढेर सारी शुभकामनायें.

' मिसिर' said...

एक साल की गठरी ,
अब थोड़ी गोल-मटोल हो गयी होगी ,
बहुत बधाई !

रचना दीक्षित said...

सालगिरह पर बधाई!!! बस अच्छी और उत्साहवर्धक पोस्ट से गठरी का वज़न बढ़ाते रहिये

pukhraaj said...

HAPPY BIRTHDAY TO "AJAY KI GATHREE" ... MANY MANY HAPPY RETURNS OF THE DAY ...

दीक्षित said...

अजय जी बधाई स्वीकार करें तथा लिखते रहें। बड़ी प्रसन्नता का विषय है कि आपका ब्लाग एक वर्ष का हो गया पुनः बधाई ।

vimal verma said...

भाई अजय जी, इतने कम समय में आपने जो लोकप्रियता हासिल की है...उसके लिये हमारी शुभकामनाएं स्वीकार करें...इसी तरह लिखते रहें ..आजकी पोस्ट में आपने मुझ जैसे नाचीज़ को याद किया इसके लिये आपका बहुत बहुत शुक्रिया।

शरद कोकास said...

हम तो हमेशा आपको यह गिफ्ट देते हैं आप भी तो दीजिये ।

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

ढेर सारी शुभकामनाएँ।

Swarajya karun said...

गठरी का प्रस्तुतिकरण बहुत अच्छा लगा . पहली साल-गिरह के लिए बधाई . आने वाले वर्षों में आपकी गठरी का खजाना और भी ज्यादा उम्दा रचनाओं से मालामाल हो ,यही कामना है .

शोभना चौरे said...

बहुत बहुत बधाई ब्लाग की पहली वर्षगांठ पर |
आप इतना समय निकल लेते है वही बहुत अच्छी बात है इसी तरह अपनी अच्छी रचनाओ से हमारा परिचय करवाते जाये |
इन्ही शुभकामनाओ के साथ पुनह बधाई |

कुमार राधारमण said...

ब्लॉग जगत तमाम तरह के रंग लिए हुए है। शुभचिंतक तो हैं हीं,विघ्नसंतोषी भी कम नहीं। जिन खोजा तिन पाइयां!

VIJAY KUMAR VERMA said...

अजय जी ,

ब्लॉग के एक साल पूरा होने की बधाई ..

समिधा said...

पहली वर्षगाँठ पर ढेरों बधाईयाँ और शुभकामनायें…

ZEAL said...

.

पहली साल की सालगिरह पर ढेरों बधाई और शुभकामनाएं.

इश्वर करे आपकी गठरी , दिन दुनी , रात चौगुनी बढे। ।

.

Anu Singh said...

अजय जी, जानती भी नहीं थी कि ब्लॉगरों की दुनिया में इतनी मैत्री, इतना warmth है! आपने टिप्पणी भेजी, मैं यहां तक आई, और यहां से कई और ब्लॉगों पर जाऊंगी। मैं हैरान हूं कि इंटरनेट पर इतना समय गुज़ारने के बावजूद मुझे कैसे ब्लॉगिंग के इस पहलू का ज़रा भी अहसास ना था!

आपकी कविताएं पढ़ी, कविताओं को अपनी गठरी में ऐसे ही बांधते रहिएगा। आयुष की सेल्फ-पोट्रेट
भी देखी। बहुत मज़ा आया। आपको गठरी के एक साल पूरा होने की ढेरों शुभकामनाएं। मेरी तरफ से गिफ्ट ये वायदा है कि मैं वापस आती रहूंगी।

Mrs. Asha Joglekar said...

आपकी गठरी में से नई नई पोस्टें निकलती रहें । बहुत बहुत बधाई ।