Sunday, June 13, 2010

सच्चा हिंदुस्तान

अभी अभी गाँव से लौटा हूं , सुखद अनुभूतियों के साथ ।हमारे गाँव के आसपास बागों की बहुतायत है और लगभग ३ कि.मी. पर जंगल है तो वातावरण काफी अच्छा रहता है ।हालांकि गर्मी बहुत थी , फिर भी शाम से मौसम ठीक हो जाता था ,और छत पर सोने का अह्सास सुखद था । हैंडपम्प से नहा कर तो अत्यधिक आनंद आया ।मैनें बेटे को बताया कि ये वातानुकूलित जल है, गर्मी में ठंढ़ा तथा सर्दी में गर्म । शायद उसे शीतल जल का अर्थ भी समझ में आ गया होगा ।
इस बार आम की फसल कम है । लेकिन ये तो होता ही है ,कि आम एक साल अच्छे आते हैं और दूसरे साल कम । फिर भी पर्याप्त है ।
      


एक झलक बाग की


खबरदार ,
आम तोड़ना मना है



बेटे ने लिया ताजे आम का स्वाद (इससे ताजे आम मिलेंगे भी नही )


आज तो बस इतना ही ,आगे और भी बातें होंगी ।

हो गया मैं नास्टेल्जिक , आकर के गाँव में ।
ए.सी. डाउन मार्केट हुआ , पीपल के छाँव में ॥



            

35 comments:

sanjukranti said...

sukhad yatra ka manohari varnan... photo bhi nice...

अनामिका की सदाये...... said...

photo acchhe lage.

दिलीप said...

fotu dekh ke man lalcha gaya...

M VERMA said...

ए.सी. डाउन मार्केट हुआ , पीपल के छाँव में ॥
ए.सी. को डाउन मार्केट करने मैं भी गाँव जा रहा हूँ
बहुत सुन्दर दृश्य और फिर आम ने तो मुँह में पानी ला दिया.

महेन्द्र मिश्र said...

मनभावन सचित्र पोस्ट... वाह आभार

पी.सी.गोदियाल said...

Bahut sundar Ajya ji . Good to know that during this period you have enjoyed real life

seema gupta said...

बेहद सुन्दर शब्द और मनभावन चित्र....
regards

डॉ टी एस दराल said...

आम के बाग़ ! भाई हम तो ख्वाबों में ही देख सकते हैं ।
बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर देखकर ।
गाँव की तो बात ही कुछ और है , विशेषकर जब कुछ दिन के लिए ही जाना हो ।

Asha said...

एक सुंदर सचित्र वर्णन|आम का स्वाद मुंह में आ रहा है
बधाईआशा

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

चित्रों से सजी हुई रचना बहुत ही मनभावन है!

arun c roy said...

hume bhi apne gaon ke yaad aa gai... is saal nahi jaa paya... jyada hi afsoos ho raha hai... yadon ke ek gathri humne bhi share kar li aapke sath

hem pandey said...

अपना गाँव सभी को इसी तरह लुभाता है.

आचार्य जी said...

नेचुरल पोस्ट।

भंगार said...

आमों के साथ बच्चे ....कुछ बदमाशी
देख अपना बचपना कुछ यूँ याद आया

ऎसी ही बगिया थी
आम ऊपर ,काफी ऊपर लगे थे
हमारा हाथ ....नहीं पहुंचता
आम खट्टे हैं
यह सोच कर घर आ जाता ...

भंगार said...

आमों के साथ बच्चे ....कुछ बदमाशी
देख अपना बचपना कुछ यूँ याद आया

ऎसी ही बगिया थी
आम ऊपर ,काफी ऊपर लगे थे
हमारा हाथ ....नहीं पहुंचता
आम खट्टे हैं
यह सोच कर घर आ जाता ...

भंगार said...

आमों के साथ बच्चे ....कुछ बदमाशी
देख अपना बचपना कुछ यूँ याद आया

ऎसी ही बगिया थी
आम ऊपर ,काफी ऊपर लगे थे
हमारा हाथ ....नहीं पहुंचता
आम खट्टे हैं
यह सोच कर घर आ जाता ...

Sudhir K.Rinten said...

Nice creation, detailed discription and ultimately the exposure your son will get from the vilage, will give him a new dimension to think for the life.
aap ne na sirf apni yadon ki gathari ko hamen diya balki agli pidhi ke naunihalon ko bhi unki yadon ki gathari ke liye bahut sa masala de diya, kuch likha kuch samajha sa .

dhanyavad sahit


Sudhir K Rinten

skrinten.blogspot.com

शरद कोकास said...

छत पर सोने की बात पढ़कर तो मुझे आपसे ईर्ष्या हो रही है ।

निर्मला कपिला said...

सुन्दर सचित्र वर्णन हम तो रोज़ ऐसे नजारे देखते हैं सडक के उस पार गाँव है शहर और गाँव दोनो का लुत्फ उठाते हैं शुभकामनायें

असीम said...

सीधे, सपाट और निश्छल लेखन के लिए बधाई...आपके शब्दों में गाँव की मिटटी की महक आ रही है...ऐसे कुछ और दृश्यों का इंतज़ार रहेगा

दीपक 'मशाल' said...

इसे ना मैं दिल जलाऊ पोस्ट कहता हूँ.. और तब तक कहता रहूँगा जब तक आप मुझे गाँव नहीं ले जाते... :)

अजय कुमार said...

स्वागत है दीपक जी ,फिलहाल तो कभी मुम्बई में दर्शन दीजिये ।

deepti said...

bahut badhiyan...aisa lga jaisey main khud hi aam ke bag mein a gai. Photos bahut hi jeevant lagai gai hain.

सतीश पंचम said...

अमवा की बयार देख मन लहालोट हो गईल बा ....तनिक बुकल नमक लै आवा यार.....अमवा चखे के मन करत बा :)

मस्त पोस्ट है।

Mukesh Kumar Sinha said...

dil to hamara bhi bachcha hai jee.........aapke bete ko dekh kar yaad aa gayee, purani yaade........wo din jab ham bhi aam todne pahuch jaya karte the.......bago me.......lekin apna nahi, dusre ko baago me.......:)

saare photoes pyare hain!!

Dr. Purushottam Lal Meena Editor PRESSPALIKA said...

जिन्दा लोगों की तलाश! मर्जी आपकी, आग्रह हमारा!!

काले अंग्रेजों के विरुद्ध जारी संघर्ष को आगे बढाने के लिये, यह टिप्पणी प्रदर्शित होती रहे, आपका इतना सहयोग मिल सके तो भी कम नहीं होगा।
=================================

उक्त शीर्षक पढकर अटपटा जरूर लग रहा होगा, लेकिन सच में इस देश को कुछ जिन्दा लोगों की तलाश है। सागर की तलाश में हम सिर्फ सिर्फ बूंद मात्र हैं, लेकिन सागर बूंद को नकार नहीं सकता। बूंद के बिना सागर को कोई फर्क नहीं पडता हो, लेकिन बूंद का सागर के बिना कोई अस्तित्व नहीं है।

आग्रह है कि बूंद से सागर में मिलन की दुरूह राह में आप सहित प्रत्येक संवेदनशील व्यक्ति का सहयोग जरूरी है। यदि यह टिप्पणी प्रदर्शित होगी तो निश्चय ही विचार की यात्रा में आप भी सारथी बन जायेंगे।

हम ऐसे कुछ जिन्दा लोगों की तलाश में हैं, जिनके दिल में भगत सिंह जैसा जज्बा तो हो, लेकिन इस जज्बे की आग से अपने आपको जलने से बचाने की समझ भी हो, क्योंकि जोश में भगत सिंह ने यही नासमझी की थी। जिसका दुःख आने वाली पीढियों को सदैव सताता रहेगा। गौरे अंग्रेजों के खिलाफ भगत सिंह, सुभाष चन्द्र बोस, असफाकउल्लाह खाँ, चन्द्र शेखर आजाद जैसे असंख्य आजादी के दीवानों की भांति अलख जगाने वाले समर्पित और जिन्दादिल लोगों की आज के काले अंग्रेजों के आतंक के खिलाफ बुद्धिमतापूर्ण तरीके से लडने हेतु तलाश है।

इस देश में कानून का संरक्षण प्राप्त गुण्डों का राज कायम हो चुका है। सरकार द्वारा देश का विकास एवं उत्थान करने व जवाबदेह प्रशासनिक ढांचा खडा करने के लिये, हमसे हजारों तरीकों से टेक्स वूसला जाता है, लेकिन राजनेताओं के साथ-साथ अफसरशाही ने इस देश को खोखला और लोकतन्त्र को पंगु बना दिया गया है।

अफसर, जिन्हें संविधान में लोक सेवक (जनता के नौकर) कहा गया है, हकीकत में जनता के स्वामी बन बैठे हैं। सरकारी धन को डकारना और जनता पर अत्याचार करना इन्होंने कानूनी अधिकार समझ लिया है। कुछ स्वार्थी लोग इनका साथ देकर देश की अस्सी प्रतिशत जनता का कदम-कदम पर शोषण एवं तिरस्कार कर रहे हैं।

अतः हमें समझना होगा कि आज देश में भूख, चोरी, डकैती, मिलावट, जासूसी, नक्सलवाद, कालाबाजारी, मंहगाई आदि जो कुछ भी गैर-कानूनी ताण्डव हो रहा है, उसका सबसे बडा कारण है, भ्रष्ट एवं बेलगाम अफसरशाही द्वारा सत्ता का मनमाना दुरुपयोग करके भी कानून के शिकंजे बच निकलना।

शहीद-ए-आजम भगत सिंह के आदर्शों को सामने रखकर 1993 में स्थापित-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)-के 17 राज्यों में सेवारत 4300 से अधिक रजिस्टर्ड आजीवन सदस्यों की ओर से दूसरा सवाल-

सरकारी कुर्सी पर बैठकर, भेदभाव, मनमानी, भ्रष्टाचार, अत्याचार, शोषण और गैर-कानूनी काम करने वाले लोक सेवकों को भारतीय दण्ड विधानों के तहत कठोर सजा नहीं मिलने के कारण आम व्यक्ति की प्रगति में रुकावट एवं देश की एकता, शान्ति, सम्प्रभुता और धर्म-निरपेक्षता को लगातार खतरा पैदा हो रहा है! हम हमारे इन नौकरों (लोक सेवकों) को यों हीं कब तक सहते रहेंगे?

जो भी व्यक्ति स्वेच्छा से इस जनान्दोलन से जुडना चाहें, उसका स्वागत है और निःशुल्क सदस्यता फार्म प्राप्ति हेतु लिखें :-
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा, राष्ट्रीय अध्यक्ष
भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यालय
7, तँवर कॉलोनी, खातीपुरा रोड, जयपुर-302006 (राजस्थान)
फोन : 0141-2222225 (सायं : 7 से 8) मो. 098285-02666
E-mail : dr.purushottammeena@yahoo.in

Voice Of The People said...

आम के बाघ का मज़ा याद दिलाने के लिए धन्यवाद्

जयकृष्ण राय तुषार said...

बधाई भाई अजयजी बहुत ही रोचक आलेख । इस समय मैँ भी गाँव आया हूँ।

mukesh meena said...

photo bahut achche the. hame bhi apana bachpan yaad aa gaya.

Mukesh K. Agrawal said...

भाई वाह..आपने तो सचमुच इन तस्वीरों के माध्यम से, मेरे स्वयं के बचपन की सुनहरी यादें जो, आम के बागो में घटित हुई थी, वो सब फिर से मेरी आँखों के सामने उपस्थित हो गया....

आपका ये ब्लॉग बहुत ही रोचक है....

बहुत बहुत धन्यवाद

shikha varshney said...

मोहक चित्रों सहित मनोहारी चित्रण.मेरे ब्लॉग पर इज्जत अफजाई का शुक्रिया.

MANOJ said...

आपके ब्लॉग पर आते ही लिट्टी का वर्णन और दर्शन....अपनापन महसूस हुआ। मैं लिट्टी लगाता हूं। कम से कम दर्जन भर मौकों पर दर्जनों मित्रों को तृप्त किया है। अंतिम बार कोई पंद्रह दिन पहले। एनसीआर में भी गोइंठा(कंडा) जुगाड़ लेता हूं। लेकिन खलिहान में लिट्टी लगाने और खाने की बात कुछ और है। लगता है गांव जाना पड़ेगा।

raani said...

mujhe bachapan yaad aa gaya...

raani said...
This comment has been removed by the author.
ankur tyagi said...

सर गाँव का मज़ा अलग ही है !शहर में सूरज कब निकला पता नहीं चलता और गाँव में सूरज ही जगाता है !अपने बहुत अच्छा लिखा जिसे पढ़ मन खुश हो गया !