Saturday, March 19, 2011

अरे ई होली का है सुरूर----(अजय की गठरी)


अरे ई होली का है सुरूर ।
खा के भांग,नशे में चूर ॥

मनमोहन की बात बतायें ।
मैडम ,मैडम जी मिमयायें ।
होता है नित नया घोटाला
एड़ा बनकर पेड़ा खायें ।
हाथ में एतना ताकत
फिर भी बनते हैं मजबूर ॥
अरे ई होली का है सुरूर ----------

मंहगाई का दानव आया ।
मंत्री ने कारण बतलाया ।
"देश के सभी गरीबों ने भी
जब से अन्न खरीदा खाया ।"
कैटिल क्लास है जनता
ई ट्विटियाये शशि थरूर ॥
अरे ई होली का है सुरूर-----------

आय हाय मोरे ए राजा ।
टू जी ने बजवाया बाजा ।
तभी पकड़ में आये बच्चू
मीडिया ने जब डंडा भांजा ।
संसद से तिहाड़ में आकर
कैसा लगा हुजूर ॥
अरे ई होली का है सुरूर-------

अपनी मांगें यूं मनवाओ ।
ट्रेन रोक दो ,बस को जलाओ ।
बिगड़ेगा कुछ नहीं तुम्हारा
सम्मानित नेता कहलाओ ।
लोकतंत्र में वोट के आगे
शासन है मजबूर ॥
अरे ई होली का है सुरूर------
*********************************
सुरक्षित , शांतिपूर्ण और प्यार तथा उमंग में डूबी हुई होली की सतरंगी शुभकामनायें ।

अजय कुमार

38 comments:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत बढ़िया .... होली की मंगलकामनाएं

वन्दना said...

आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

baabusha said...

Ha ha ha ha ! :) veri nive n thoight provoking too ! :)

Dr (Miss) Sharad Singh said...

मनमोहन की बात बतायें ।
मैडम ,मैडम जी मिमयायें ।
होता है नित नया घोटाला
एड़ा बनकर पेड़ा खायें ।
हाथ में एतना ताकत
फिर भी बनते हैं मजबूर ॥....

वाह..क्या खूब ...कटाक्ष किया है...

आपको रंगपर्व होली पर अनेक सतरंगी शुभकामनायें !

ज्योति सिंह said...

is tyohaar par kuchh burai nasht ho jaaye yahi kaamna karti hoon .happy holi aapko .

Poorviya said...

होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

jai baba banaras...

पी.एस .भाकुनी said...

मनमोहन की बात बतायें ।
मैडम ,मैडम जी मिमयायें ।........
होली की हार्दिक शुभ-कामनायें!

Kailash C Sharma said...

बहुत सार्थक और सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें..

सदा said...

बहुत खूब ....होली की शुभकामनाएं ।

डॉ टी एस दराल said...

व्यंगों से भरपूर
अरे ई होली का है सुरूर-----------

सुन्दर कविता के साथ होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

जाने कब होगा चकनाचूर
मैडम जी का राज गुरूर
खैर, बहुत सुन्दर व्यंग्य बाण होली पर ! आपको भी होली की शुभकामनाये !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

होली के सुरूर में इतना सच ....बहुत अच्छी प्र्श्काश ..

होली की शुभकामनायें

महेन्द्र मिश्र said...

रंगों के पावन पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

संजय भास्कर said...

बहुत सार्थक और सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें..

संजय भास्कर said...

होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।

Shah Nawaz said...

आपको भी परिवार सहित होली की बहुत-बहुत मुबारकबाद... हार्दिक शुभकामनाएँ!

Udan Tashtari said...

आपको एवं आपके परिवार को होली की बहुत मुबारकबाद एवं शुभकामनाएँ.

सादर

समीर लाल

ताऊ रामपुरिया said...

बेचारे MMS को बिना साबुन पानी के ही धो डाला आपने तो.

होली पर्व की घणी रामराम.

Dr Varsha Singh said...

अपनी मांगें यूं मनवाओ ।
ट्रेन रोक दो ,बस को जलाओ ।
बिगड़ेगा कुछ नहीं तुम्हारा
सम्मानित नेता कहलाओ ।
लोकतंत्र में वोट के आगे
शासन है मजबूर ॥

सार्थक लेखन .....
आपको रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

Rajesh Kumar 'Nachiketa' said...

होली की शुभकामना....

दिगम्बर नासवा said...

अपनी मांगें यूं मनवाओ ।
ट्रेन रोक दो ,बस को जलाओ ।
बिगड़ेगा कुछ नहीं तुम्हारा ...

आज का सच है ये ... सही कहा है आपने .....
आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

भंगार said...

बहुत सुन्दर ………॥

ZEAL said...

Beautiful creation on Holi festival.
Happy Holi.

mahendra verma said...

होली पर इस कविता ने खूब गुदगुदाया।

‘आय हाय मोरे राजा‘ कहने का अंदाज़ पसंद आया।

होली पर्व की अशेष हार्दिक शुभकामनाएं।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22 -03 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

मनोज कुमार said...

व्यवस्था पर व्यंग्य करती अच्छी रचना।

M VERMA said...

बेहतरीन कटाक्ष

ZEAL said...

बेहतरीन व्यंग , होली के संग !

Dinesh pareek said...

आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
http://vangaydinesh.blogspot.com/
http://dineshsgccpl.blogspot.com/

Dinesh pareek said...

आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
http://vangaydinesh.blogspot.com/
http://dineshsgccpl.blogspot.com/

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" said...

achhi rachna....

holi ki shubhkaamnayen!!

VIJUY RONJAN said...

holi ka suroor ubhar kar aaya...slides bhi acche lage...

shikha varshney said...

मजेदार व्यंग होली पर सटीक रचना.
आभार .

निर्मला कपिला said...

होली का रंग ऐसा चढा कि ब्लाग परिक्र्मा ही भूल गयी बहुत दिन बाद आयी हूँ। पहली और आखिरी पँक्तियाँ तो गज़ब की हैं। बधाई इस रचना के लिये।

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

mahendra srivastava said...

हाहाहहाहाहा
एडा बन कर पेडा खाएं

क्या बात है..

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

प्रिय दोस्तों! क्षमा करें.कुछ निजी कारणों से आपकी पोस्ट/सारी पोस्टों का पढने का फ़िलहाल समय नहीं हैं,क्योंकि 20 मई से मेरी तपस्या शुरू हो रही है.तब कुछ समय मिला तो आपकी पोस्ट जरुर पढूंगा.फ़िलहाल आपके पास समय हो तो नीचे भेजे लिंकों को पढ़कर मेरी विचारधारा समझने की कोशिश करें.
दोस्तों,क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से
श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी लगाये है.इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ.
अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?
यह टी.आर.पी जो संस्थाएं तय करती हैं, वे उन्हीं व्यावसायिक घरानों के दिमाग की उपज हैं. जो प्रत्यक्ष तौर पर मनुष्य का शोषण करती हैं. इस लिहाज से टी.वी. चैनल भी परोक्ष रूप से जनता के शोषण के हथियार हैं, वैसे ही जैसे ज्यादातर बड़े अखबार. ये प्रसार माध्यम हैं जो विकृत होकर कंपनियों और रसूखवाले लोगों की गतिविधियों को समाचार बनाकर परोस रहे हैं.? कोशिश करें-तब ब्लाग भी "मीडिया" बन सकता है क्या है आपकी विचारधारा?