Sunday, April 20, 2014

चुनावी मौसम में --चुनावी पैरोडी (अजय की गठरी )


                                                         (72)
पैरोडी की तर्ज है --फ़िल्म 'गोपी' से
"रामचन्द्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आयेगा
हंस चुनेगा दान तिनका ,कौव्वा मोती खायेगा "
********************************************
फिर चुनाव का मौसम आया ,सब नेता चिल्लायेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||

बेटे को नौकरी मिलेगी ,बेटी की होगी शादी |
कर्जे से भी मुक्ति मिलेगी ,मंहगाई से आजादी ||
थोड़े से पैसों में ,घर का ,पूरा राशन आयेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||

अपराधी जेलों में होंगे .फिर नैतिकता आयेगी |
उंच नीच का भेद मिटेगा ,सामाजिकता छायेगी || 
हाथ में ,कोई ,लाठी लेकर ,भैंस न ले जा पायेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||

अब ना झूठा वादा होगा ,सच होंगे सारे सपने |
धरती का सिरमौर बनायें , प्यारे देश को हम अपने || 
अब विदेश में देश का पैसा ,कोई ना ले जा पायेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||

इंतज़ार है चाँद दिनों का ,राम राज अब आयेगा |
हर किसान अब फसल का अपने ,दाम भी पूरा पायेगा || 
भूख कर्ज से ,व्याकुल कोई ,फांसी नहीं लगायेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||

अब विकास की नदी बहेगी , देश के कोने कोने में | 
अब प्रयास हो ,सभी योजना ,समय से पूरा होने में || 
नहर ,सड़क,बिजली ,शिक्षा ,सब ,गाँव गाँव तक आयेगा |
भोला भाला आम आदमी ,फिर कुछ आस लगायेगा ||
********************************************
---------गठरी पर अजय कुमार -----
********************************************



1 comment:

Digamber Naswa said...

मस्त है पैरोडी ... चुनावी मौसम क्या क्या करेगा ..